Friday, March 1, 2013

ख्वाबो का सिलसिला जारी है......!

ख्वाबों सिलसिला जारी है
उसका आना जाना जारी है
दर्द देना दर्द लेना जारी है
आंसुओं से लिखता है 
इबारत इश्क की
बेगुनाह को गुनहगार 
ठहराना जारी है.........
डर-डर के जीता रहा
ताउम्र जिन्दगी
के जिन्दगी को मौत 
कहना जारी........... हैं 
नही जानता निभाना वफा
प्यार का तमाशा 
बनाना जारी......... है !


2 comments:

  1. यूं ही प्यार तमाशा बनता जाता है ... बेगुनाह सजा पाते रहते हैं ..
    गहरी बात ...

    ReplyDelete
  2. सुंदर पंक्तियाँ ..आप भी पधारो ..स्वागत है ...http://pankajkrsah.blogspot.com

    ReplyDelete

कभी बहुत ही भावपूर्ण हो जाते है जज्बात हमारे हमारी भावनाये जिन पर जो चाहो कोई जोर नही इ

Blog Archive

About Me