Friday, October 30, 2009


हर रोज एक नया गम दो
मुझे गमों  की आदत है
आज  ये पास नही..... ....  !
ये क्योकर मुझसे दुर है
बस पत्थर ही मारों दोस्तो
न ही मैं नूर हूं न  ही सरूर हू!
कही उठा कर एक कोने में रख दो दोस्तों
किसी की ग़ल्तियाँ और माफ़ी ?
 जमी मेरे किस काम की!
दूर फलक पर घर बना दो
मुझे एक चादर सिला दो
आओ गले लगा लू तुम्हें!
पल भर भी दुर न हो
क्या ढुढता है अब ये दिल
साया भी जुदा हो चुका है दोस्तों !
उसके सितम की कोई
हद तो होगी,अब तो सितमों
शह ढूढंता हू दोस्तों........!
              -----------

2 comments:

  1. उसके सितम की कोई
    हद तो होगी
    सुंदर शब्दों के साथ भावाभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  2. जमी मेरे किस काम की!
    दूर फलक पर घर बना दो
    मुझे एक चादर सिला दो
    आओ गले लगा लू तुम्हें!

    in panktiyon dil choo liya.......

    bahut hi behtareen kavita......

    ReplyDelete

कभी बहुत ही भावपूर्ण हो जाते है जज्बात हमारे हमारी भावनाये जिन पर जो चाहो कोई जोर नही इ

Blog Archive

About Me