Saturday, September 26, 2009



          महकती रहों तुम ,नन्ही कली मेरे बगिया की.....
      
          युं जैसे महकती है रात की रानी
          तुम मेरे जीवन की आधार हो
          तुम बिन थी कितनी अधूरी!
        
          महकती रहों तुम ,नन्ही कली मेरे बगिया की.....

                                                                                

महकती रहों तुम नन्ही कली मेरी बगिया की........

जैसा मैने सोचा तुम हो नितांत वैसी ही
तुम्हारा हंसना, जैसे जान हो मेरी
तुम्हारा रोना, लगता ले लेगा प्राण मेरे!

महकती रहो तुम,नन्ही कली मेरी बगिया की.......
जीवन था जो रसहीन तुमने
अपने कदमों की आहट से
मेरे हर क्षण को कर दिया जीवन्त मानो!

महकती रहो तुम,नन्ही कली मेरी बगिया की.......

              ____________
        

7 comments:

  1. मुझे कविता लिखना नही आता पर जब मै लेख या कोइ न्यूज लिखती हूं, मेरी नन्ही गुडिया मेरी पास आ कर पुछती है मै क्या कर रही हूं? वो कहती है मम्मा मेरे लिए लिखो मेरी ये कोशिश है उसके लिए कुछ लिखने की.........

    ReplyDelete
  2. आपकी यह कोशिश बहुत बहुत कामयाब है और बहुत ही प्यारी कविता लिखी है आपने. कविता शुरू होकर खुद-ब-खुद एक ऐसे सार और अर्थ पर पहुँच गई है जहां रचना की सार्थकता सोचने ही लायक बनती है.
    जारी रहें. शुभकामनाएं.

    ---
    समाज और देश के ज्वलंत मुद्दों पर अपनी राय रखने के लिए व बहस में शामिल होने के लिए भाग लीजिये व लेखक / लेखिका के रूप में ज्वाइन [उल्टा तीर] - होने वाली एक क्रान्ति!

    ReplyDelete
  3. महकती रहो तुम,नन्ही कली मेरी बगिया की.......
    जीवन था जो रसहीन तुमने
    अपने कदमों की आहट से
    मेरे हर क्षण को कर दिया जीवन्त मानो!

    महकती रहो तुम,नन्ही कली मेरी बगिया की.......

    waah kitni meethi

    ReplyDelete
  4. महकती रहो तुम,नन्ही कली मेरी बगिया की.......
    sunitaji
    aap ki shuruaat bahut hi sahaj hue hai aur adamber ke bina aapne apne bhavoon ko kavya roop dene ki chesta ki hai...muje pura viswas hai ki aap bahut achi kaviyatri ban sakti hai..kripiya likhiyega .....rakesh

    ReplyDelete
  5. मेरी इस रचना के लिए जिसे आप कविता कह रहे है तो सोचती हूं अपनी उस रचना के बारे में जिसे मैने रोज तीन सालों में नवीन रूप लेते हुए देखा है ।
    हौसला बढानें के लिए बहुत शुक्रिया सभी का......

    ReplyDelete
  6. आपकी यह कवित आपकी गुड़िया के लिए
    प्यार और स्नेहं का प्रमाण हैं
    आपके बगिया में हमेशा महकती रहे नन्ही कली

    ReplyDelete
  7. wahh !!!
    ek dam vatsalya pooran or mamatva se bharpoor...
    betiyan to hoty hi esse hain..

    ReplyDelete

कभी बहुत ही भावपूर्ण हो जाते है जज्बात हमारे हमारी भावनाये जिन पर जो चाहो कोई जोर नही इ

Blog Archive

About Me