Tuesday, February 19, 2013

कौन हो तुम...........?

सफर में चलते चलते 
टकरा गयी जिन्दगी 
उसने पूछा कौन हो तुम
मैने कहा ख्वाब,ढूंढ रही हूं मंजिल
वीरानों में सावन तलाशती हूं
घनघोर घटा में 
गरजती बिजलियों से डरती 
नीड तलाशती हूं
दूर तक जायेगा यह सफर 
या यही बदल देगा रास्ता
अनजान हूं अभी राहों से 
जिन्दगी खामोश रही
सहम गयी मेरे सवालों से
कौन यह , जो मुझे मांग रही है
क्या जिन्दगी हमेशा साथ देती है.................!

2 comments:

  1. बहुत सुन्दर ! बहुत ही खूबसूरत भावपूर्ण रचना ! बहुत खूब !

    ReplyDelete
  2. कविता के भाव एवं शब्द का समावेश बहुत ही प्रशंसनीय है

    हर शब्द शब्द की अपनी अपनी पहचान बहुत खूब

    बहुत खूब

    मेरी नई रचना

    खुशबू

    प्रेमविरह

    ReplyDelete

कभी बहुत ही भावपूर्ण हो जाते है जज्बात हमारे हमारी भावनाये जिन पर जो चाहो कोई जोर नही इ

Blog Archive

About Me