Sunday, January 27, 2013

शब्द बन जायेगे नश्तर........

यह न सोचा था 
शब्द बन जायेगे नश्तर 
कर देगे भीतर तक छलनी..
      होगा उसका प्यार ही 
पर मेरे लिए अभिशाप से कम नही 
यह न सोचा था 
रूला कर उसको ,हम भी
हद से ज्यादा रोयेगे
    होगा यह अन्दाजे जुदा उसका 
पर मेरे लिए  कभी मान्य नही 
यह न सोचा था
तडपा कर तडपते रहेगे
   होगा एक नया अफसाना यही
पर मेरे लिए गमों की सौगात सही
यह न सोचा था 
यादों का सफर 
बन जायेगा बेर्दद सफर 
   होगा वह मुझसे जुदा सही 
पर मेरे लिए विराम नही.......... 

1 comment:

  1. होगा एक नया अफसाना यही
    पर मेरे लिए गमों की सौगात सही .......bahut khoob !

    ReplyDelete

कभी बहुत ही भावपूर्ण हो जाते है जज्बात हमारे हमारी भावनाये जिन पर जो चाहो कोई जोर नही इ

Blog Archive

About Me