Wednesday, June 16, 2010

इंसान और इंसान की फितरत ?

इंसान और इंसान की फितरत 
कितने अजीब है दोनो ही ?
बहुतेरे रंग भर लगता गिरगट सा
स्वाग रचता ढोंग की दूनिया बसाता
इंसान और इंसान की फितरत 
कितने अजीब है दोनो ही ?
पलभर में बना लेता गैरों को अपना
भुला देता खुन के रिश्तों को
लहु पानी बन बहता रगों में
उजाड देता उसका ही चमन 
जिसने दिया उसको जनम
इंसान और इंसान की फितरत 
कितने अजीब है दोनो ही ?
 अपनी बेबाकी से वो 
दिलों को जख्मी कर देता है
जो भर न सके वो नासुर बना देता है
रौंदा इसने प्रकृति को 
अपना आशियाना बना डाला
कीमत जान की है बहुत सस्ती
गर गरीब हो इन्सा कोई
वही उसे मार डालता है .
इंसान का इंसान अब रिश्ता खत्म जो हो चला है
इंसान और इंसान की फितरत 
कितने अजीब है दोनो ही .....................।

9 comments:

  1. Sachmuch bahut hi acchaa likha hai apne, bilkul kabile tarif. kabhi mauka mile to jarur padhiyega.

    www.taarkeshwargiri.blogspot.com

    ReplyDelete
  2. इंसान का इंसान अब रिशता खत्म हो चला,सही कहा ।

    ReplyDelete
  3. इंसान और इंसान की फितरत
    कितने अजीब है दोनो ही .....................।
    वाकई दोनों अजीब है

    ReplyDelete
  4. बहुतेरे रंग भर लगता गिरगट सा
    स्वाग रचता ढोंग की दूनिया बसाता
    इंसान और इंसान की फितरत
    कितने अजीब है दोनो ही ?

    सही पहचाना है सुनीता जी । बढ़िया ।

    ReplyDelete
  5. आपको सभी को यह लिखा पसन्द आया विचार आते है बस शब्द रूप में कुछ कह देती हूं इसे कविता जानो या कुछ भी सब आप सभी पर है बस लिख कर मन हल्का हो जाता है।

    ReplyDelete
  6. उम्मीद है आप सभी को मेरा अन्य ब्लाग जीवन धारा पसन्द आयेगा
    एक बार देखे, जीवन धारा http://chittachurcha.blogsspot.com

    ReplyDelete
  7. बहुत अच्छी कविता।

    ReplyDelete

कभी बहुत ही भावपूर्ण हो जाते है जज्बात हमारे हमारी भावनाये जिन पर जो चाहो कोई जोर नही इ

Blog Archive

About Me