Monday, November 30, 2009

उडान

बन्द होती सांसे
यूं जीना भी कोई जीना है
फडफडाते है पंख छूने को आकाश नये
कुतरे पंख कैसे काई उडान भरे........ !

नन्ही चीडियां रश्क तूझसे 
मिला खुला आकाश तूझे
हवा भी कुछ कहती हौले-हौले......  !
टूटते बांध आशाओं के
बन्द हो जाते  दरवाजे खुलने वाले
एक मंजिल पा कर मंजिलों से दूरी है...... !
उम्मीद कहती हौले से कानों में
तू क्योकर उदास है कोई सवेरा
कोई सहर दाखिल होती ही है
सफर बोझिल जरूर पर कट तो रहा है....... !
कतरे पंख ही सही उडान तो भर 
आस मां देखता है राह तेरी
बंधी मुठ्रठी खोल तो जरा
फिर न कहना कही रोशनी नही...... !
एक दीप जला तो जरा
पग पग धर, धरा नप जाये
हौसला कर कदम तो बढा....................!
       _______

10 comments:

  1. कतरे पंख ही सही उडान तो भर
    आस मां देखता है राह तेरी
    बंधी मुठ्रठी खोल तो जरा
    फिर न कहना कही रोशनी नही...... !

    बहुत खूब। सकारात्मक रचना।
    अच्छी सोच पर्दर्शित की है सुनीता जी।

    ReplyDelete
  2. Meri kavita ki utni samajh nahi hai par keh sakta hoon ki yeh behatrin hai.aise hi likhti rahe mam aur apni comments se doosro ko protsahit kare

    ReplyDelete
  3. वैचारिक ताजगी लिए हुए रचना विलक्षण है।

    ReplyDelete
  4. बहुत अच्छी रचना है। भाव, विचार और शिल्प सभी प्रभावित करते हैं। सार्थक और सारगर्भित प्रस्तुति ।

    मैने अपने ब्लग पर एक कविता लिखी है-रूप जगाए इच्छाएं-समय हो पढ़ें और कमेंट भी दें ।- http://drashokpriyaranjan.blogspot.com

    ReplyDelete
  5. एक दीप जला तो जरा
    पग पग धर, धरा नप जाये
    हौसला कर कदम तो बढा...................
    बेहतरीन-आभार

    ReplyDelete
  6. बहुत खूब। सकारात्मक रचना।

    ReplyDelete
  7. वाकई बहुत अच्छी रचना ।

    ReplyDelete
  8. Bahut sundar,sakaratmak rachna..."mushkil sahee,manzile jaanib qadam to badha!"

    ReplyDelete
  9. कतरे पंख ही सही उडान तो भर
    आस मां देखता है राह तेरी
    बंधी मुठ्रठी खोल तो जरा
    फिर न कहना कही रोशनी नही...... !
    एक दीप जला तो जरा
    पग पग धर, धरा नप जाये
    हौसला कर कदम तो बढा.......
    !!साहस बंधाती सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  10. कतरे पंख ही सही उडान तो भर
    आस मां देखता है राह तेरी
    बंधी मुठ्रठी खोल तो जरा
    फिर न कहना कही रोशनी नही...... !
    एक दीप जला तो जरा
    पग पग धर, धरा नप जाये
    हौसला कर कदम तो बढा....................!
    _______
    इसी हौसले की तो ज़रूरत है.

    ReplyDelete

कभी बहुत ही भावपूर्ण हो जाते है जज्बात हमारे हमारी भावनाये जिन पर जो चाहो कोई जोर नही इ

Blog Archive

About Me